शुक्रवार, अप्रैल 13, 2012

ग़ज़ल

ग़ज़ल

गभग पन्द्रह दिन पहले दिल्ली से वापस लौटते समय FM पर मेरा बहुत ही पसंदीदा गाना 'रोज रोज आंखों तले इक ही सपना पले रात भर काजल जले आँखों में जिस तरह ख़्वाब का दिया जले 'बज रहा था ........ ख़्वाब, रात ,नींद , ख़्वाहिशें,उम्मीदें ये कविता,ग़ज़ल में सबसे ज्यादा लिखे जाने वाले लफ़्ज हैं ,ऐसा मुझे लगता है और हो भी क्यों न  ज़िंदगी भी इन्ही लफ्जों के इर्द गिर्द घूमती रहती है ..... ख़ैर गाना सुनते सुनते इक  दो लाइन मेरे जेहन में भी आयीं 'बंद आँखों से जहाँ मुझको समंदर सा लगा /जागी आँखों से वहां रास्ता बंजर सा लगा  ...........Mobile note book ने इस बार भी ख़ुद पर मेरे ज़ज्बात को लिखने  में और हाँ भूल न जाने में अपनी मदद दी .........आज जैसे तैसे इस  ग़ज़ल को पूरा करने की कोशिश की है .........अब तक कोशिशे ही चल रही हैं क्यों कि लिखने की 'क़ाबिलियत' यकीनन अब भी मुझमे नहीं है ...हाँ मन का कहा मानकर कोशिशें बदस्तूर जारी हैं ......

बंद आँखों से जहाँ मुझको समंदर सा लगा 
जागी आँखों से वहाँ रास्ता बंजर  सा लगा 

रोज ख़ुशियों की बेहिसाब अर्ज़ियाँ लेकर  
अब तो मंदिर का रास्ता मुझे दफ़्तर सा लगा 

उसकी हर बात में कुछ ऐसी बात होती है 
फ़लक भी सामने उसके मुझे कमतर सा लगा 

घर में समझौते-ख़्वाहिशें रहीं तसल्ली से 
आज के दौर में हर शख्स दरबदर सा लगा 

उसकी बातों से मुझे ऐसे तजुर्बात हुए  
उसका चुप रहना किसी बोझ का लश्कर सा लगा 

28 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर ग़ज़ल कही आपने.. तीसरे शेर की पहली पंक्ति में इसी को ऐसी कर लें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. "uski har baat me kuch aisi baat hoti hai falak bhi saamne uske kamtar sa laga'....thx with my heart president

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. रोज ख़ुशियों की बेहिसाब अर्ज़ियाँ लेकर
    अब तो मंदिर का रास्ता मुझे दफ़्तर सा लगा

    बहुत खूब ! मतला और ये शेर दिल खुश कर गए।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका लिखा पढ़ने की बात ही कुछ और है

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन गजल।

    एक छोटा सा सुझाव है कि इसे भी अपनी आवाज़ मे रिकॉर्ड कीजिये....प्लीज़।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी ज़रा सी कोशिश एक शानदार ग़ज़ल में तब्दील हो गई।
    काफि़यों ने ग़जब का कमाल किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी सभी प्रस्तुतियां संग्रहणीय हैं। .बेहतरीन पोस्ट .
    मेरा मनोबल बढ़ाने के लिए के लिए
    अपना कीमती समय निकाल कर मेरी नई पोस्ट मेरा नसीब जरुर आये
    दिनेश पारीक
    http://dineshpareek19.blogspot.in/2012/04/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  9. Many poet are successful at expressing what is in their hearts or articulating a particular point of view your's poetry do both and more...'uski baaton se mujhe aise tazurbaat hue ...uska chup rahna kisi bojh ka lashkar sa laga " bahut umda laaine hai maidam ji ...दिल में तूफ़ान उठा दिया किसने ..शेर उसका सुना दिया किसने ..परत दर् परत बर्फ की मानिंद ..खून 'कमल' जमा दिया किसने

    उत्तर देंहटाएं
  10. ख़ूबसूरत मतला !
    बेहद शानदार गज़ल ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. band aankhe Dil ki gahrai se dekhti hai, khuli aankhe bhramit si rahti hai ekaagra nahi hoti...

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी गजल लाजवाब लगी
    please welcome to my blog. It will be my pleasure

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपके कवि हृदय को नमन.
    सुन्दर भावों को बहुत खूबसूरती से
    पिरो दिया है आपने इस गजल में.

    जब मन में भाव समुन्द्र हिलोरे ले
    तो लिखना ही एक सशक्त माध्यम है.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच है, ख़्वाब पंख से हलके होते हैं जबकि ज़िंदगी कई बार बहुत भारी.

    उत्तर देंहटाएं
  15. शुरूआती दो शेर तो लाजवाब हैं... बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही मार्मिक एवं सारगर्भित प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपके एक-एक शब्द मेरा मनोबल बढ़ाने के साथ-साथ नई उर्जा भी प्रदान करते हैं । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह...
    बहुत सुंदर गज़ल............

    उत्तर देंहटाएं
  18. bahut badiya pyari bhumika ke baad sunar gajal padhna bahut achha laga...

    उत्तर देंहटाएं
  19. पहला और दूसरा शेर बहुत ही खुबसूरत हुआ है !

    उम्दा गज़ल !

    उत्तर देंहटाएं
  20. आज के दौर में हर शख्स दरबदर सा लगा...एक अच्छी रचना के लिए साधुवाद॰

    उत्तर देंहटाएं
  21. उसका चुप रहना किसी बोझ का लश्कर लगा | .....बहुत अच्छा लगा ..धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं