मंगलवार, मई 29, 2012

शब्द समर्पण

शब्द समर्पण 


 एक महीने पहले फेसबुक पर ख़ुद को एक और नए ग्रुप में जुड़ा हुआ पाया .....नाम था 'फरगुदिया ...स्त्री के अंतर्मन में उठे प्रश्न और समाधान ' नाम थोड़ा अलग सा था .....मैंने ग्रुप का पेज ओपन किया फिर उसके बनाये जाने के मकसद पर मेरा ध्यान गया  .......मुझे पता चला कि ये ग्रुप दिल्ली की रहने वाली एक होम मेकर जिनका नाम 'शोभा मिश्रा 'है , उनका है जिन्होंने अपनी बचपन की मित्र जिसका नाम 'फरगुदिया 'था उसकी याद में बनाया है...... मात्र १४ वर्ष की उम्र की थी फरगुदिया जब वह किसी की दरिंदगी का शिकार हुई और जब गरीब, बेसहारा और एक गाँव में घरों में काम-काज कर अपने परिवार का पालन-पोषण करने वाली उसकी माँ ने उसका गर्भपात करवाया तो उसकी मौत हो गई.............

संवेदनाओं को समर्पित इस ग्रुप से और शोभा दीदी से लगाव कुछ बढ़ गया था ...फोन से भी बातचीत होने लगी इस बीच एक कर्यक्रम के लिए उनका फोन मेरे पास आया ...उनका मन था कि  उसी फरगुदिया और उसकी जैसी हज़ारों-लाखों-करोड़ों फरगुदियाओं की याद में एक शाम रखी जाये  जिसमें कुछ कवयित्रियाँ इस तरह की कुकृत्यों के विरोध में अपनी कविताओं का पाठ करें ...मैंने हामी तो भर दी लेकिन मन में कई बार ये प्रश्न भी आया कि सिर्फ़ कवितायेँ या सिर्फ़ एक मौखिक क्रांति से समाज में कुछ बदलाव आ पायेगा ?

फिर सोचा मानवीय संवेदनाओं के निम्नतर स्तर की उपज हैं ये घटनाएँ ......और इन्हें उच्चतर बनने की क्रिया एक सतत प्रक्रिया है ...........इसके लिए प्रयास होता रहे चाहे वो लिखने और पढ़ने  से ही क्यों ना हो ..तो लगा ये ज्यादा अच्छा  है .... कुछ ना होने से बहुत  बेहतर ...........


 ख़ैर कार्यक्रम हुआ और सफल भी हुआ ....... 'फरागुदिया के नाम-एक शाम' कहने के लिए 'फरगुदिया' के नाम पर एक कविता पाठ का कार्यक्रम था. लेकिन कविताओं के अलावा वहाँ बहुत कुछ और भी था जिसने उपस्थित श्रोताओं के मन को छुआ. सबसे पहले दीप-प्रज्वलन एक ऐसी महिला से जिनका ज़िक्र हाशिए में भी नहीं होता. घरों में काम-काज कर अपने सात बच्चों के परिवार का पालन-पोषण और अपनी बच्चियों को अच्छी शिक्षा देने का सपना रखने वाली विधवा अनारा देवी ने कार्यक्रम अध्यक्षा सविता सिंह जी और मुख्य अतिथि सुमन केशरी जी के साथ दीप प्रज्वलन किया...कैसर जैसी घातक बीमारी को अपनी जिजीविषा से परास्त कर बहुत सारे लोगों के लिए उम्मीद की किरण बनीं मंजु दीक्षित जी का सम्मान .......वरिष्ठ साहित्यकार नन्द भारद्वाज जी ,पुरुषोत्तम अग्रवाल जी एवं हरीश नवल जी की गरिमा पूर्ण उपस्तिथि ने कार्यक्रम  को और गरिमा प्रदान की वरिष्ठ कवयित्रियों सविता सिंह जी , सुमन केसरी जी , स्नेह सुधा नवल जी के साथ साथ लीना मल्होत्रा राव , अंजू शर्मा ,  , विपिन चौधरी , रश्मि भारद्वाज , निरुपमा सिंह , स्वाति ठाकुर  के काव्य पाठ ने कार्यक्रम एक सार्थक आयाम दिया ....... कवि और समाज सेवी प्रेम भारद्वाज जी ,डॉ गीता सिंह भी कार्यक्रम में मौजूद थे | मुकेश मानस जी , भरत तिवारी जी , राघवेन्द्र अवस्थी जी , रविन्द्र के दास जी , स्वतंत्र भारत , सुबोध कुमार जी , रूपा सिंह , स्नेह देसाई , धीरज कुमार , नरेन्द्र कुमार , रोहित कुमार , भास्कर ठाकुर , सुशील , महेश दीक्षित जी , मंजू दीक्षित जी , चंद्रकांता , सखी समूह की सह संचालिका अरुणा सक्सेना भी माजूद थीं ...................सईद अयूब ने कार्यक्रम सफल बनाने  में शोभा जी की पूरी मदद की ....

एक नया अनुभव था मेरे लिए ....... क्यों कि ये एक ऐसा  कार्यक्रम था जो संवेदनाओं की उपज है .............अंत में इस कार्यक्रम को हर वर्ष करवाने, फरगुदिया के नाम पर ग्यारह हज़ार रूपये के एक पुरुस्कार की घोषणा और एक आपसी सहमति (जिसकी घोषणा कार्यक्रम में नहीं की गयी) कि हर वर्ष फरगुदिया की माँ को कुछ (कम से कम पाँच हज़ार रूपये) आर्थिक सहायता और यदि संभव हुआ तो कुछ गरीब, बेसहारा बच्चियों की पढ़ाई में यथासंभव मदद (आर्थिक या किसी और प्रकार की)...जिसमे हम सब यथा संभव मदद करेंगे ......... 'फरगुदिया के नाम-एक शाम' कार्यक्रम कुछ विशेष तो था ही कार्यक्रम की कुछ झलकियाँ इन पिक्चर्स में ......




मेरी सुनाई हुई दो कविताओं में से एक कविता जो 'फरगुदिया' को और उस जैसी ही अनेकों बच्चियों को समर्पित है 


 तुमने ले ही लिया था
जन्म
कि तुम्हे लेना था
लोरियाँ ,थपकियाँ नहीं थीं तुम्हरे लिए
मगर तुम थी तो छोटी सी बच्ची ही ना
सो ही जाती थीं पैरों ,हाथों ,को पेट से लगा के
बढ़ने लगी थीं तुम
कि तुम्हे बढ़ना ही था
रोटियां बस खाने को नहीं थीं तुम्हारे लिए
दिन भर के काम का मेहनताना था तुम्हारा
जो ईधन देता रहे तुम्हारी अंतडियों को
तुम रजस्वला हो गयी थीं
कि तुम्हे होना ही था
अब तुम कुम्हार की चाकी पर चढ़ ही गयी थीं
पकने कि लिए
तुम्हारे उभरते बदलाव चमकने लगे थे निगाहों में बहुतों के
अचानक तुम तोड़ दी गयीं
लेकिन तुम्हे टूटना नहीं था
कच्चे गीले बर्तन से भी कोई पानी पी गया
और चाक से गिर कर तुम बिखर गयीं ऐसे चक्रव्यूह में
जिसे भेदना तुमने भी सीखा ना था .....
तुम्हे बहुत कुछ होना था
मगर तुम हो ना पायीं
तुम पवित्र थीं गिरजे के घंटे की मुंदरी की तरह
 हैवानियत ने छुआ तुम्हे
तुम बजीं भी मगर एक चीख की तरह,
महकना था तुम्हे सुगंध की तरह
तुम बिखर गयीं भस्म की तरह,
खेलना था तुम्हे बच्चों की तरह
मगर तुम खेली गयीं खिलौनों की तरह,
तुम्हे कहना था बहुत कुछ
मगर तुम कह ना पायीं
‘बच्ची’ से ‘स्त्री’ बनने तक
तुम हो ही जातीं
तीखी ,कसैली ,पैनी
इस समाज की बदौलत
आक्रोश का लावा धधकता रहा होगा तुम्हारे अंदर तब तक
जब तक तुम्हारी चिता की सुलगती लकड़ियों ने उसे ठंडा ना कर दिया होगा
क्या अग्नि ही काट थी तुम्हारी अग्नि की ? 

बुधवार, मई 16, 2012

कुछ यादें आपके साथ ..........


आज पापा की सातवीं पुण्यतिथि है ना जाने कितनी बार सोचा कि ये दिन अगर कलेंडर से मिट जाये तो कितना अच्छा हो या क्यों ना वो पल जब उनकी साँसें थमी थी वो पल वक़्त की अल्मारिओं में रखे हुए पलों के हिसाब से मिट जाये ......जानती हूँ ऐसा कभी भी नहीं होगा ...............इसीलिए ये बचपना भी  दोहराना  छोड़ दिया है |

 हम जल्दी ही उनके नाम का एक पेज बना रहे हैं 'डॉ-उर्मिलेश '.....जिसमें हम उनके कुछ वीडियोज,फोटोस ,कवितायेँ ,संस्मरण ताजा करेंगे ......हालाँकिहम कुछ ही वीडियोज एकत्र कर पायें हैं फिर भी कोशिश रहेगी कि उनसे जुड़े हर छुए अनछुए पहलुओं से हम आपको मिलवा सकें ,और जल्दी ही उनकी बेबसाइट भी आपके सामने होगी ......

पिछले एक दशक से जिस तरह तकनीक के द्वारा ,सोशल साइट्स के द्वारा  लेखकों और कवियों का पाठकों से सीधा साक्षात्कार होता दिखता है उसे देख कर मेरा भी मन होता है कि हम  भी पापा के कृतित्व और व्यक्तिव को आने वाली पीढ़ी तक ले के जायें ... मैं जानती हूँ कि उनको सुनने वाले श्रोता,उनको पढ़ने वाले उनके पाठक लाखों में हैं फिर भी ये साहित्यिक सिलसिला यहाँ भी जारी रहे ऐसी कामना है  ......

हाँ ये हमारा सौभाग्य ही है कि ‘महात्मा ज्योतिबाफूले रूहेलखंड विश्वविघ्यालय’ के बी.ए. के छात्र-छात्राएँ उन्हें कोर्स में पढ़ रहे हैं ....

इसी कड़ी में मैं आज आप सब के साथ एक वीडियो आज शेयर कर रही हूँ जो दिल्ली दूरदर्शन के साहित्यिक कार्यक्रम ‘पत्रिका’ का है इस कार्यक्रम में प्रख्यात गीतकार आदरणीय डॉ.कुंअर बैचैन जी ,मेरठ विश्वविद्यालय से  डॉ.नवीन सिंह लोहिनी जी ,प्रख्यात साहित्यकार डॉ.सुशील सिद्धार्थ जी ने पापा के सृजन और व्यक्तिव पर अपने विचार एवं उनसे जुड़े संस्मरण साझा किये हैं साथ ही उनकी कुछ गजलों का मैंने भी सस्वर पाठ किया है .........

आप सब भी अगर देखेंगे सुनेंगे तो मुझे भी अच्छा लगेगा ....................................

रविवार, मई 06, 2012

सत्यमेव जयते


आज आमिर खान का बहुप्रचारित एवं बहुप्रतीक्षित शो सत्यमेव जयते एयर हो गया, नाम से ही जाहिर है कि जैसा भी होगा समाज के लिए एक और नई दिशा से जोड़ेगा ......आज सुबह से कुछ मन अनमना सा था ,कभी-कभी सब कुछ सामान्य होते हुए भी ना जाने क्यों उदासीनता घर सी कर जाती है ......फिर भी ११ बजते ही मैं टी.वी. सेट के सामने बैठ गयी |आमिर खान का पहला शो एयर होने वाला था ..उनसे एक आम और ख़ास दोनों ही तरह के दर्शकों को एक ख़ास उम्मीद तो रहती ही है ,पहला एपिसोड ‘कन्या भ्रूण हत्या’ पर आधारित था और एपिसोड पर आने वाली महिलाएं,जिन्हें ना जाने कितनी भयानक यातनाओं से गुजरना पड़ा क्यों कि उन्होंने लड़की जन्मी थी या जन्मने वाली थीं .....गरीब तबके से लेकर पढ़े लिखे तबके से बुलाई गयीं भुक्तभोगी महिलाओं की दर्दनाक दास्तान सुनकर अभी भी मेरे रोंगटे खड़े हो रहे हैं , ये शो पूरी तरह से अप टू द मार्क है पहले समस्या,फिर कारण,फिर निराकरण भी |

ऐसी ही दर्दनाक दास्तानों से हम सब भी रोज रूबरू होते हैं, सुबह आँख खुलते ही अख़बार दस्तक देता है अपनी ५ परसेंट अच्छी ख़बरें एवं ९९ परसेंट ऐसी ही दर्दनाक दास्तान लेकर और हम चेतना शून्य समाज के एक हिस्से की तरह पढ़ते हैं ,पलटते हैं और रद्दी में रख देते हैं .... मीना कुमारी का एक शेर है........
....
‘साहिल के तमाशाई ,हर डूबने वाले पर
अफ़सोस तो करते हैं इमदाद नहीं करते’


हम भी कुछ ऐसे ही तमाशाई से बने नजर आते हैं ,रोज सुबह फिर दिन चढ़ते- चढ़ते ना जाने कितनी बार..... और करें भी क्या ?
क्या हम भी जुटें एक जाग्रत नागरिक होने और समाज के एक अंग होने की जिम्मेदारी समझ कर ? लेकिन सवाल ये है कि अगर जुट भी जाएँ तो कौन सुनेगा ?........मेरे आसपास भी ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने जानते बूझते कोख में ही बेटियों को मार दिया और मैं चाहकर भी कुछ नहीं कर पाई .........
  

 आज ये सब मैं एक शब्द से विचलित होकर लिख रही हूँ वो है ‘चेतना शून्यता’ ...कल ‘हिंदुस्तान’ में ‘मोहन श्रोतिय’ जी का एक आलेख पढ़ा था जो उनके ब्लॉग ‘सोची समझी’ से उद्घृत है जहाँ उन्होंने मीना कुमारी के इसी शेर से अपनी पोस्ट का ताना बना बुना है जो मैंने अभी ऊपर लिखा है .....

 तभी से खुद से कई सवाल कर रही हूँ फिर खुद ही जबाव भी दे रही हूँ क्यों कि उसी चेतना शून्य समाज का एक उदाहरण मैं भी और आप भी और शायद हम में से ज्यादातर सभी हैं , जिनके लिए एक लाइन ‘क्या कर सकते हैं हम’ पर्याप्त है खुद को समस्याओं से बचा कर रखने की ...एक सच ये भी है कि अपनी परेशानियों की लिस्ट इतनी लंबी है कि कोई और साथ निभाए ना निभाए आखिरी साँस तक परेशानियाँ,व्यस्तताएं,जिम्मेदारियां हमारा पूरा साथ निभाती हैं


ओह......देख लीजिए मेरा इतना ही लिखना ‘हमारी समाज के प्रति जिम्मेदारी’ से बचकर निकल जाने का एक और बहाना है ........लेकिन मेरे साथ एक सच ये भी है कि जब कभी मैंने अपनी चैतन्यता का उपयोग किसी सद्कर्म में किया तो आधे से ज्यादा बार मेरे द्वारा किये गए ऐसे कार्य का सही जगह क्रियान्वन नहीं हो पाया शायद मेरी जल्दबाज़ी रही खुद को आगे से आगे रखने की जहाँ मैं कुछ सार्थक करके अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन कर सकूँ भले ही वो बाद में निरर्थक साबित हुआ हो .......समय के साथ और अनुभव के बाद हम बहुत कुछ सीखते हैं मैंने भी सीखा है और सीखूंगी भी .........आइये हम सब कोशिश करें और कोशिश ही नहीं पूरी लगन से अपनी जीवन के उस प्रश्न का समाधान करें जहाँ हमें उत्तर मिले कि ‘असल जीवन तो ये है जहाँ हम ‘मैं’ से ऊपर उठकर ‘हम’ को पहचान पायें!

 मैं बधाई देती हूँ  ‘सत्यमेव जयते’ की पूरी टीम को जिनका प्रथम प्रयास निसंदेह प्रशंसनीय है !मैं पुनः कहना चाहती हूँ कि इस कार्यक्रम में समस्या भी थी कारण भी थे और निराकरण भी जिसने इसे सम्पूर्ण बनाया है .........हमेशा साथ दीजिए ऐसे प्रयास का ...............’सत्यमेव जयते’!