मंगलवार, जुलाई 15, 2014

किरणें


न्यूज़ चैनल्स की क्लिपिंग्स से मालूम चलता है कि गाज़ियाबाद के एक फाइव स्टार होटल की ओपनिंग सेरेमनी में होटल मालिक किसी नामी गिरामी राजनेता ,फिल्म स्टार या किसी और बड़ी हस्ती को न बुलाकर किसी अनाथालय के ख़ूब सारे बच्चों को चीफ़ गेस्ट बनाते हैं जहाँ बच्चे महँगी घास से ग्रीन हुए लॉन में मन भर कर उछल कूद करते हैं और पेट भर कर नाज़ुक क्राकरी में खाते हैं
तब
जब चेन्नई में गंभीर रूप से बीमार एक २१ साल की युवती के जल्दी से जल्दी हार्ट ट्रांसप्लांट के लिए पुलिस और चेन्नई के नागरिक ट्रेफिक को एक जगह जाम कर देते है जिससे उसका ट्रीट मेंट समय पर संभव हो पाता है
तब
जब एक आई टी कम्पनी में काम करने वाला युवक अपनी पहली तनख्वाह से रोड पर लावारिस घूमने वाले बच्चों को मन भर कर मेक्डोनाल्ड में पिज़्ज़ा बर्गर खिलाता है 
 तब
जब एक रईस बिज़नेसमैन सुबह-सुबह गुरूद्वारे जाकर वहाँ आने वाले लोगों के जूते साफ़ करता है और मन में  संतोष का एहसास लेकर अपनी आलीशान कार में बैठ कर ऑफिस का रुख़ करता है और ये वीडियो सोशल साइट्स पर लाखों लोग देखते हैं और लाखों बार ‘हैट्स ऑफ’ लिख कर उसे शेयर करते हैं
तब
जब मेरे पास एक इंजीनियरिंग के छात्र का फ़ोन आता है और वो मुझसे कहता है ‘मैडम आई हव गौट युअर नंबर फ्रॉम अ ब्लड सेंटर ..हम पढाई करने के बाद बचा हुआ समय एक कैंसर हॉस्पिटल को देते हैं जहाँ हम ग़रीब कैंसर  पेशेंट्स के इलाज के लिए फंड्स इकठ्ठा करते हैं ,कैन यू हेल्प अस ,हम आपको अपने बारे में डिटेल एक मेल के थ्रू भेज रहे हैं जब आप निश्चिंत हो जाएँ तब हमारी मदद करें ,और वाक़ई में मेल देख कर उनका निस्वार्थ सेवाभाव मन को छू जाता है  
तब
आज के वक़्त,आज के दौर,आज के लोग,आज की पीढ़ी को संवेदनहीन कहना,लिखना और मानना वास्तव में जजमेंटल होना लगता है ये भी एक ज्यादती है जो अक्सर हम कर जाते हैं !



1 टिप्पणी:

  1. PRIDE, THE GENESIS OF SIN BY STEVE FINNELL

    Pride is an inordinate opinion of one's own dignity, importance, merit or superiority.

    Satan fell because of pride. That was the genesis of sin.

    Ezekiel 28:11-17....."Your heart was lifted up because of your beauty; You corrupted your wisdom for the sake of your splendor; I cast you to the ground, I laid you before kings, That they may gaze at you.
    Isaiah 14:12-14 "How you are fallen from heaven, O Lucifer, son of the morning! How you are cut down to the ground, You who weakened the nations! 13 For you have said in your heart: "I will ascend into heaven, I will exalt my throne above the stars of God; I will also sit on the mount of the congregation On the farthest sides of the north; 14 I will ascend above the heights of the clouds, I will be like the Most High."

    Satan had a pride problem. He thought he was as smart as God. Satan believed he could be a God and equal to God. Satan had a pride problem.

    DO SOME BELIEVERS IN CHRIST HAVE A PRIDE PROBLEM?

    1 Timothy 3:1-6....6 not a novice, lest being puffed up with pride he fall into the same condemnation as the devil.

    Even leaders in the church can become victims of pride.

    When men deny obvious Biblical facts, is that not pride rearing its ugly head?

    When men deny that Jesus said "He who believes and is baptized will be saved.... (Mark 16:16), is it not pride that prevents men from admitting they have been wrong in declaring that water baptism is not essential for salvation? Are men smarter than Jesus? How much pride does a man have to have to deny the clear teachings of the Scriptures.


    When men are confronted with God's truth and still deny it, what but pride is the cause?

    PRIDE

    Proverbs 16:18 Pride goes before destruction, And a haughty spirit before a fall.

    Proverbs 11:2 When pride comes, then comes shame; But with the humble is wisdom.

    Proverbs 29:23 A man's pride will bring him low, But the humble in spirit will retain honor.

    Pride causes men to believe their own opinions and the opinions of other men at the expense of the clear teaching of God, which is found in the Bible and the Bible alone.

    Pride forms man's opinions based on his own thoughts.

    Pride is evident when men believe their creed books and reject the teaching of Scripture.

    Pride can be destroyed if men will prayerfully search the Scriptures asking God to reveal His truth.

    LOOKING FOR CONFORMATION OF YOUR OWN THOUGHTS AND, OR THE CREEDS WRITTEN BY MEN, IS EVIDENCE OF PRIDE.

    WHAT DOES BIBLE STUDY WITHOUT PRAYER PRODUCE? NOT MUCH.

    YOU ARE INVITED TO FOLLOW MY BLOG. http//:steve-finnell.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं